बागवानी विभाग प्रशिक्षण संस्थान ऐसे कोर्स शुरू करें, जिससे बागवानी को बढ़ावा मिले: जेपी दलाल

बागवानी विभाग प्रशिक्षण संस्थान ऐसे कोर्स शुरू करें, जिससे बागवानी को बढ़ावा मिले तथा बेरोजगार युवाओं को अपने देश के साथ-साथ विदेशों में भी रोजगार के अवसर मुहैया हो सके: कृषि मंत्री जेपी दलाल।
कृषि मंत्री ने बागवानी प्रशिक्षण संस्थान उचानी में बने 14 लाख 50 हजार रूपये की लागत से सम्मेलन सभागार का किया उद्घाटन, कहा- बागवानी विशेषज्ञ रेडियो पर करे किसानों से वार्तालाप।
CNFC News Karnal

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि बागवानी विभाग के प्रशिक्षण संस्थान ऐसे कोर्स शुरू करें, जिससे बागवानी को बढ़ावा मिले तथा बेरोजगार युवाओं को अपने देश के साथ-साथ विदेशों में भी रोजगार के अवसर मुहैया हो सके। इतना ही नहीं आईलट्स की भी व्यवस्था प्रशिक्षण संस्थानों में हो।
कृषि मंत्री जेपी दलाल शनिवार को बागवानी प्रशिक्षण संस्थान उचानी में करीब 14 लाख 50 हजार रूपये की लागत से बने सम्मेलन सभागार का उद्घाटन करने के उपरांत बागवानी विभाग के अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे। इस मौके पर मंत्री दलाल ने मधुमक्खी विशेषज्ञ डा०बिल्लू यादव द्वारा लिखी गई पुस्तक का विमोचन भी किया। इस मौके पर इंद्री के विधायक रामकुमार कश्यप, नीलाखेड़ी के विधायक धर्मपाल गोंदर, बागवानी विश्वविद्यालय के वीसी डा०समर सिंह, बागवानी विभाग के महानिदेशक डा०अर्जुन सिंह सैनी उपस्थित रहे।
इस अवसर पर कृषि मंत्री ने बागवानी विभाग के माध्यम से चलाई जा रही योजनाओं की समीक्षा की और उन्हें निर्देश दिए कि इन योजनाओं का व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार हो, ज्यादा से ज्यादा किसानों तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचे और बागवानी क्षेत्र को बढ़ावा मिले। उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि कृषि विभाग की तर्ज पर बागवानी विभाग के विशेषज्ञ भी रेडियो पर वार्तालाप करें और बागवानी से जुड़े किसानों की समस्याओं का समाधान करें ताकि किसान समृद्ध हो तथा देश की अर्थव्यवस्था मजबूत हो सके।

मंत्री जेपी दलाल करनाल बागवानी केंद्र
मंत्री ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि 20 से 25 वर्षो के बाद दूसरे देशों से आए हुए टिड्डी दल द्वारा अटैक किया गया है, लेकिन भारत सरकार व हरियाणा सरकार द्वारा इस स्थिति पर नियंत्रण के लिए काफी कारगर कदम उठाए जा रहे है। हरियाणा में टिड्डी दल के द्वारा ज्यादा नुकसान नहीं किया गया है लेकिन फिर भी किसान भाईयोंं को चौकन्ना रहने की जरूरत है। सरकार द्वारा पर्याप्त मात्रा में दवाई तथा अन्य आवश्यक प्रबंध किए गए है ताकि किसान को नुकसान से बचाया जा सके। एक प्रश्न के उत्तर में मंत्री ने कहा कि किसानों को फसल विविधिकरण अपनाना चाहिए। इससे किसानों की आमदनी दोगुना बढ़ेगी। उन्होंने यह भी कहा कि धान की बिजाई पर सरकार द्वारा प्रतिबंध नहीं लगाया गया है बल्कि पानी को बचाने के लिए धान की जगह किसानों को मक्का, बाजरा, तलहन, दलहन व कपास की खेती करने की सलाह दी जा रही है। इन फसलों को बढ़ावा देने के लिए सरकार द्वारा किसानों को खाद व बीज की सुविधा के अलावा नकद प्रोत्साहन राशि भी दी जा रही है।
इस अवसर पर बागवानी विभाग के महानिदेशक डा०अर्जुन सैनी ने विभाग द्वारा चलाई जा रही गतिविधियों के बारे में अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि उद्यान प्रशिक्षण संस्थान उचानी में किसानों को बागवानी की नवीनत्तम तकनीकों से प्रशिक्षित किया जाता है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2020-21 से संस्थान द्वारा 6 नये कोर्स शुरू किए जाने है। इन कोर्सो में बागवानी सुपरवाईजर, पैक हाउस वर्कर, ओरचार्ड/प्लांटेशन वर्कर, इंटीरियर लैंडस्केपर, एसीस्टेंट इंटीरियर लैंडस्केपर, ग्रीन हाउस ऑपरेटर शामिल है। गार्डनर व ऑरगेनिक ग्रोवर की विदेशों में काफी मांग है। इस दिशा में भी विभाग की प्रक्रिया जारी है। उपरोक्त कोर्सो के साथ-साथ अन्तर्राष्ट्रीय अंग्रेजी भाषा परीक्षण प्रणाली की भी कोचिंग वर्ष 2020 से चलाई जा रही है। उन्होंने बताया कि बागवानी विभाग ने वर्ष 2019-20 तक 1225 प्रशिक्षण कार्यक्रम के माध्यम से 37642 प्रशिक्षणार्थियों को बागवानी के विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षण मुहैया करवाया गया।
उद्यान प्रशिक्षण संस्थान द्वारा वर्ष 2008-09 से उद्यान सुपरवाईजर एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स व गार्डनर सर्टीफि केट कोर्स छ: माह शुरू किए गये जिनके द्वारा अब तक 235 विद्यार्थी उद्यान सुपरवाईजर कोर्स उत्तीर्ण कर चुके है व 421 विद्यार्थी गार्डनर सर्टिफिकेट कोर्स उत्तीर्ण कर चुके है। इसके साथ-साथ वर्ष 2017-18 से लघु अवधि कोर्स भारतीय कौशल विकास परिषद् के अंतर्गत गार्डनर 300 घंटे व वर्ष 2018-19 से जैविक उत्पादक 200 घंटे शुरू किए गये जिनका मुख्य उद्देश्य विद्यार्थियों का कौशल विकास करना है। वर्ष 2019-20 तक 1134 विद्यार्थी गार्डनर 300 घंटे व जैविक उत्पादक 200 घंटे का कोर्स 109 विद्यार्थी उत्तीर्ण कर चुके है।
डा0 जोगिन्द्र सिंह संयुक्त निदेशक-कम-प्रधानाचार्य ने उद्यान प्रशिक्षण संस्थान का दौरा करवाया व कृषि मंत्री को जानकारी दी कि बागवानी संस्थान किसानों को कोविड-19 महामारी की वजह से ऑनलाइन वेबिनार के माध्यम से घर बैठे बागवानी से संबंधित प्रशिक्षण दे रहे है अब तक तीन वेबिनार के माध्यम से 310 किसानों को आनॅलाइन प्रशिक्षण दे चुके है। इस मौके पर जिला बागवानी अधिकारी डा०मदन लाल, डा० जितेन्द्र दहिया, डा०बीएस चौधरी, डा०रीतू शर्मा सहित विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

कृषि मंत्री ने पौधारोपण करके दिया स्वच्छ पर्यावरण का संदेश।
कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बागवानी प्रशिक्षण संस्थान उचानी के हर्बल पार्क में पौधारोपण किया और पर्यावरण को स्वच्छ बनाए रखने का संदेश दिया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अधिक से अधिक छायादार पौधों के साथ-साथ फलदार पौधे लगवाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *