किसान क्रेडिट कार्ड

पीकेसीसी योजना का लाभ उठाकर किसान बन सकते हैं आत्मनिर्भर और खुशहाल : डॉ जयसिंह

CNFC News Behal (Loharu)
 पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. जयसिंह ने किसानों से आग्रह किया है कि वे खेती के साथ-साथ पशुधन व्यवसाय को बढ़ावा दें, ताकि उनकी आर्थिक स्थिति और ज्यादा मजबूत हो सके।  सरकार द्वारा पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न योजनाओं को लागू किया गया है। पशुपालकों के लिए पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना (पीकेसीसी) लागू की गई है। इस योजना का भी किसान ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाएं।उपनिदेशक सोमवार को बहल के राजकीय पशु चिकित्सालय में प्रदेश के कृषि एवम् पशुपालन मंत्री जेपी दलाल के मार्गदर्शन में आयोजित  पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड शिविर  में इस योजना के बारे में बता रहे थे । शिविर में  बहल खंड के गांवों के  हजारों किसानों ने पशु कृषि कार्ड बनवाने के लिए, कोविड-19 महामारी के मापदंडों सामाजिक दूरी का पालन करते हुए भाग लिया।इसमें करीब एक हजार किसानों ने इस योजना के लिए अपना पंजीकरण करवाया ।
कृषि मंत्री जेपी दलाल ने इस योजना का किसानों को ज्यादा से ज्यादा लाभ देने के लिए पशुपालन एवं डेयरी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे  पशुधन व कुक्कट किसानों तक इस योजना की जानकारी पहुंचाएं, ताकि लाभार्थियों की पहचान करके उन्हें पशुपालन के लिए पशु क्रेडिट कार्ड मुहैया करवाया जा सके। पशु क्रेडिट कार्ड योजना किसानों के लिए एक अद्भुत योजना है, जिसका वे लाभ उठाकर आत्मनिर्भर और खुशहाल बन सकते हैं।
पशु किसान के्रडिट कार्ड की मुख्य विशेषताएं:-
पशु किसान क्रेडिट कार्ड धारक द्वारा एक लाख 60 हजार रुपये तक की राशि बिना कुछ गिरवी रखे किसी भी बैंक से ली जा सकती है। इससे  अधिक होने पर कोलेटरोल सिक्योरिटी चाहिए होगी। सभी बैंकों द्वारा पशु किसान क्रेडिट कार्ड धारक को सलाना 7 प्रतिशत साधारण ब्याज दर पर ऋण दिया जाएगा। इस 7 प्रतिशत ब्याज दर में से समय पर भुगतान करते रहने पर  सरकार की ओर से 3 प्रतिशत दर का अनुदान तीन लाख रुपये तक की ऋण राशि पर दिया जाता है। इस प्रकार इस वर्ष पशु क्रेडिट कार्ड धारक द्वारा तीन लाख रुपये तक का ऋण 4 प्रतिशत सलाना साधारण ब्याज दर पर कुछ गिरवी रख कर लिया जा सकता है और 1.6 लाख रुपये तक बिना कोलेटरोल सिक्योरिटी के ले सकता है। इसके अतिरिक्त पशु किसान क्रेडिट कार्ड धारक द्वारा तीन लाख रुपये से अधिक बकाया राशि का ऋण 12 प्रतिशत सालाना साधारण ब्याज की दर पर लिया जा सकता है।
पशुपालक द्वारा लिए गए ऋण की राशि जरूरत के अनुसार समय-समय पर ली जा सकती है और अपनी सुविधानुसार जमा करवा सकता है। सिर्फ यह याद रखना है कि पहली बार राशि निकलवाने या खर्च करने के एक साल की समयावधि के अंदर किसी भी एक दिन एक बार पूरी राशि जमा करवाई जानी अनिवार्य है, ताकि साल में एक बार ऋण मात्रा शून्य हो जाए। अन्यथा उसे ब्याज राशि पर 4 प्रतिशत की छूट नहीं मिल पाएगी और डिफाल्ट के दिनों में 12 प्रतिशत ऋण का भुगतान करना होगा। पशु किसान क्रेडिट कार्ड बाजार में प्रचलित अन्य किसी भी साधारण डेबिट कार्ड की भांति किसी भी एटीएम मशीन से राशि निकलवाने/बाजार से कोई भी खरीददारी करने हेतु प्रमाणित लिमिट अनुसार प्रयोग किया जा सकता है।
यदि किसी पशु किसान क्रेडिट कार्ड धारक द्वारा लिया गया ऋण एक साल की समयावधि के दौरान वापिस जमा नहीं करवाया जाता, तो उसे 12 प्रतिशत सालाना ब्याज की दर से भुगतान करना होगा और वह जब तक इसका भुगतान नहीं कर देता, तब तक वह अपनी क्रेडिट कार्ड की लिमिट के हिसाब से आगामी राशि नहीं निकाल पाएगा। इस राशि का भुगतान करने के उपरांत वह फिर से आगामी 1 साल के लिए ऋण लेने का हकदार हो जाएगा। पशुओं की भिन्न-भिन्न श्रेणियों और वितीय पैमाने की अवधि के अनुसार ही पशुपालक को प्रत्येक माह वित्तीय अवधि के हिसाब से बराबर ऋण दिया जाएगा।
  किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने हेतू जरूरी दस्तावेज:-
बैंक प्रारूप अनुसार आवेदन फार्म, हाईपोथिकेशन करार, केवाईसी पहचान हेतु दस्तावेज जैसे वोटर कार्ड, आधार कार्ड, पैन कार्ड आदि या अन्य दस्तावेज बैंक की मांग अनुसार।
प्रति पशु वित्तीय पैमाने का विवरण:-
गाय के लिए एक साल हेतू 40783 रुपये, भैस के लिए एक साल हेतू 60249 रुपये, भेड़/बकरी के लिए एक साल हेतू 4063 रुपये, सूअर के लिए एक साल हेतू 16337 रुपये, लेयल पोल्ट्री के लिए एक साल हेतू 720 रुपये निर्धारित किए गए  है। उदाहरण के लिए यदि किसी पशुपालक के पास एक गाय है तो वह 40783 रुपये तक का ऋण ले सकता है। पशु किसान क्रेडिट कार्ड एक गाय के लिए 40783 रुपये के ऋण हेतु बैंक से आधारित वित्तीय पैमाने के आधार पर पशुपालक को ऋण 6 बराबर प्रतिमाह किश्तों में दिया जाएगा अर्थात पशुपालक अपनी इस गाय के पालन पोषण के लिए हर महीने 6797 रुपये अपने क्रेडिट कार्ड से ऋण के तौर पर प्राप्त कर सकता है। यदि किसी कारणवश किसी माह यह क्रेडिट प्राप्त नही कर पाता है तो पिछले महीने/महीनों का क्रेडिट वह अगले महीने भी ले सकता है। इस प्रकार 6 महीने में प्राप्त कुल राशि 40783 रुपये अब उसे एक साल के अंतराल के अंतर्गत 4 प्रतिशत सलाना ब्याज के साथ लौटानी होगी। यहां ध्यान देने योग्य बात यह है कि कार्ड धारक का एक वर्ष राशि लौटाने का समय अंतराल उसी दिन से शुरू होगा, जिस दिन वही पहली किश्त प्राप्त करेगा।
 लीड डिस्ट्रिक्ट मैनेजर भिवानी बीके धींगङा ने बताया कि सभी भरे हुए आवेदन गांवों के संबंधित बैंको को भेज दिए जाएंगे, बैंक दस्तावेजों की पङताल कर संबंधित किसान को सूचित करेंगे। शिविर में एसडीओ पशुपालन  डॉ देवेन्द्र सिंह ,डॉ सहीराम श्योरण,डॉ जगबीर झाझरिया,रविन्द्र मढोली,वीरेंद्र लंबा,मिरसिंह धनखड़,मंत्री के मीडिया एडवाइजर रणसिंह गाढ़ा, महेंद्र सिंह, जितेंद्र सिंह घनघस, रजत, मोनू वर्मा, सुखविंदर आदि उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *