जल है तो कल है: अब डार्क ब्लॉक के अलावा दूसरे ब्लॉकों में भी लगेंगे रिर्चाजिंग शाफ्ट: जेपी दलाल

प्रदेशभर में लगेगे 1000 रिर्चाजिंग शाफ्ट, सर्वे टीम भी मैदान में उतर
एक पर सवा तीन लाख की आएगी लागत
CNFC News Chandigarh
पानी बचाने के मुहिम में जुटी सूबे की सरकार ने एक और निर्णय लिया है। अब डार्क जोन के अलावा अन्य ब्लॉकों में भी रिर्चाजिंग शाफ्ट लगाए जाएंगे। पहले सरकार ने तीन ब्लॉक रतिया, गुहला और शाहबाद में 100-100 रिर्चाजिंग शाफ्ट लगाने का निर्णय लिया था। पिछले तीन दिनों में ही हरियाणा के करीब 500 किसानों ने इसके लिए आवेदन कर दिया है।
सरकार ने इसके लिए टेंडर भी कॉल कर दिए हैं, सरकार चाहती है कि जून के अंत तक मानसून आने से ठीक पहले इन शाफ्ट का निर्माण करा दिया जाए। ताकि बरसात का पानी भूमि के अंदर भेजा जा सके और भू-जल स्तर में सुधार हो सके। अबकी बार प्रदेशभर में ऐसे 1000 रिर्चाजिंग शाफ्ट लगाने का निर्णय सरकार पहले ही ले चुकी है।
प्रदेश के कृषि एवम् किसान कल्याण मंत्री जेपी दलाल ने बताया कि प्रदेश के आठ ब्लॉक के अलावा अब अन्य उन ब्लॉकों में भी रिर्चाजिंग रिचार्जिंग का निर्माण किया जाएगा, जहां पर किसान फसल विविधिकरण करेंगे। ताकि भू-जल को बचाया जा सके। इसके लिए टेंडर हो चुके हैं।

jp dalal bjp

एक रिर्चाजिंग रिचार्जिंग के निर्माण पर दो से सवा तीन लाख रुपए तक खर्च आएगा। इसके लिए अब तक करीब 500 किसान आवेदन तीन दिनों में ही कर चुके हैं। सरकार की ओर से धान के बदले दूसरी फसलें जैसे मक्का, कपास, दलहन व तिलहन या बाजरा आदि उगाने के लिए किसानों को पोर्टल पर आवेदन करने के लिए कहा है। अब तक करीब 68 हजार किसानों ने धान छोड़ने का निर्णय ले लिया है।
भू-जल बचाने के लिए बनाई है योजना
सरकार ने यह योजना भू-जल बचाने के लिए तैयार की है। इस समय प्रदेश में भू-जल 20.71 मीटर तक नीचे है। महेंद्रगढ़ में भू-जल 49.17 मीटर तक जा चुका है। वर्ष 2008 में जहां प्रदेश में भू-जल स्तर 15.41 मीटर था, वर्ष 2019 तक यह 20.71 तक पहुंच चुका है। यानी 11 साल में भू-जल स्तर में 5.14 मीटर की कमी दर्ज की गई है।
किसान को सरकार देगी 10 हजार रुपए 
सरकार योजना को किसानों के साथ मिलकर चलाएगी। जिन किसानों के खेतों में बाढ़ आदि का पानी अधिक आता है, उनके लिए यह काफी लाभकारी होगा। क्योंकि बाढ़ में पानी के जमाव के कारण फसल बर्बाद हो जाती है। किसान से प्रति रिर्चाजिंग शाफ्ट 10 हजार रुपए लिए जाएंगे। इसे लिए सर्वे टीम भी मैदान में उतर चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *